बजरंग बाण का संपूर्ण हिंदी पाठ, सटीक विधियां और इसके लाभ

PDF Nameसंपूर्ण बजरंग बाण PDF
No. of Pages3
PDF Size40 KB
LanguageHindi
Type/ CategoryReligion & Spirituality
SourceVarious
Download LinkAvailable Here

दोस्तों आज मैं आप लोगों के साथ हनुमान जी का संपूर्ण बजरंग बाण पीडीएफ/ Bajrang Baan Lyrics Hindi PDF शेयर करूंगा। जो लोग बजरंगबली जी का भक्त है, उनका आराधना और नमन करते हैं, उन लोगों के लिए बजरंग बान का नियमित जप करना अति आवश्यक है।

यह माना जाता है कि बजरंग बाण की रचना खुद श्री हनुमान जी ने किया है, इसी बात को नजर रखते हुए हम यह अंदाजा लगा सकते हैं कि इसकी नियमित पाठ और स्तुति हमारे लिए कितना लाभदाई हो सकता है।

बजरंग बाण की नियमित जप और पाठ करने से भक्तों की सारी कामनाएं पूर्ण होता है, वह समस्त अशुभ चीजों से दूर रहते हैं। यहां इस पोस्ट में बजरंग बान का हिंदी PDF डाउनलोड करने की direct link दिया गया है, उस डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके आप पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

लेकिन उससे पहले आपको बजरंग बान का सही तरीके से पाठ करने की विधि को भी पूरी तरह जान लेना चाहिए, ताकि पाठ करते समय आप से कोई भूल ना हो।

बजरंग बाण पाठ के लाभ – Bajrang baan Advantages

bajrang baan in hindi lyrics pdf
Bajrang Baan in Hindi Lyrics PDF
  • बजरंग बाण की पाठ से आपकी मन और शरीर में अद्भुत ऊर्जा की प्राप्ति होती है।
  • इसके पाठ से आपकी प्रतिदिन किए गए कार्यों में सफल होने की संभावना और भी बढ़ जाती है।
  • अगर आप किसी भी तरह की छोटी या बड़ी बीमारी से पीड़ित है, तो बजरंग बान की पाठ से उससे पूरी तरह छुटकारा पाया जा सकता है।
  • अगर आप कोई नौकरी की तलाश कर रहे हैं, तो बजरंग बाण की नियमित पाठ से आपकी नौकरी लगने की संभावना बढ़ जाती है।
  • बजरंग बान की नियमित पाठ से काम करते समय आपकी मन और भी स्थिर और अटल रहती है, जिससे सफल होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • बजरंग बाण के पाठ से आपकी आर्थिक और पार्थिव समृद्धि आती है।
  • अगर आपकी मन में कोई भय आपको सताती है, तो इसकी नियमित जप से उससे पूरी तरह से छुटकारा पाया जा सकता है।
  • अगर आप कोई काम में बार-बार असफल हो रहे हैं, तो बजरंग बाण के पाठ से आपकी वह काम सफल हो सकते हैं।
READ ALSO  फ्री हनुमान चालीसा हिंदी पीडीएफ | Free Hanuman Chalisa Hindi PDF Download

बजरंग बाण पाठ के विधि – Bajrang Baan Paath Ke Vidhi

बजरंग बाण पाठ करने की सटीक विधियां नीचे दिया गया है:

  • बजरंग बाण का पाठ हमेशा मंगलवार से ही शुरू करना चाहिए।
  • सूर्योदय से पूर्व स्नान संपूर्ण करके, स्वच्छ वस्त्र धारण करके बजरंग बाण की पाठ शुरू करना चाहिए।
  • जिस स्थान पर आप बजरंग बाण की पाठ करेंगे, वह स्थान अच्छी तरह से साफ करके हनुमान जी का मूर्ति स्थापित करें।
  • क्योंकि गणेश जी की पूजा सभी देवताओं से पहले किया जाता है, इसलिए सबसे पहले गणेश जी की पूजा करने के बाद बजरंग बाण की पाठ करना चाहिए।
  • हनुमान जी के सामने सुगंधी दीप जलाए और फूल आदि अर्पित करें।
  • हनुमान जी के प्रसाद के रूप में उनके पसंदीदा लड्डू आदि और फलों का अर्पण करें।
  • इसके बाद बजरंग बाण की पाठ शुरू करें, और पाठ पूर्ण होने के बाद प्रभु श्री राम का कीर्तन जरूर करें।

Bajrang Baan “Doha” Aur “Chopai” Paath Hindi Mein – बजरंग बाण दोहा और चौपाई

बजरंग बाण दोहा
निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान।
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥


बजरंग बाण चौपाई
जय हनुमंत संत हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
जन के काज बिलंब न कीजै। आतुर दौरि महा सुख दीजै॥
जैसे कूदि सिंधु महिपारा। सुरसा बदन पैठि बिस्तारा॥
आगे जाय लंकिनी रोका। मारेहु लात गई सुरलोका॥
जाय बिभीषन को सुख दीन्हा। सीता निरखि परमपद लीन्हा॥
बाग उजारि सिंधु महँ बोरा। अति आतुर जमकातर तोरा॥

अक्षय कुमार मारि संहारा। लूम लपेटि लंक को जारा॥
लाह समान लंक जरि गई। जय जय धुनि सुरपुर नभ भई॥
अब बिलंब केहि कारन स्वामी। कृपा करहु उर अंतरयामी॥
जय जय लखन प्रान के दाता। आतुर ह्वै दुख करहु निपाता॥
जै हनुमान जयति बल-सागर। सुर-समूह-समरथ भट-नागर॥
ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले। बैरिहि मारु बज्र की कीले॥
ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं हनुमंत कपीसा। ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा॥
जय अंजनि कुमार बलवंता। शंकरसुवन बीर हनुमंता॥
बदन कराल काल-कुल-घालक। राम सहाय सदा प्रतिपालक॥
भूत, प्रेत, पिसाच निसाचर। अगिन बेताल काल मारी मर॥
इन्हें मारु, तोहि सपथ राम की। राखु नाथ मरजाद नाम की॥
सत्य होहु हरि सपथ पाइ कै। राम दूत धरु मारु धाइ कै॥
जय जय जय हनुमंत अगाधा। दुख पावत जन केहि अपराधा॥
पूजा जप तप नेम अचारा। नहिं जानत कछु दास तुम्हारा॥
बन उपबन मग गिरि गृह माहीं। तुम्हरे बल हौं डरपत नाहीं॥
जनकसुता हरि दास कहावौ। ताकी सपथ बिलंब न लावौ॥
जै जै जै धुनि होत अकासा। सुमिरत होय दुसह दुख नासा॥
चरन पकरि, कर जोरि मनावौं। यहि औसर अब केहि गोहरावौं॥
उठु, उठु, चलु, तोहि राम दुहाई। पायँ परौं, कर जोरि मनाई॥
ॐ चं चं चं चं चपल चलंता। ॐ हनु हनु हनु हनु हनुमंता॥
ॐ हं हं हाँक देत कपि चंचल। ॐ सं सं सहमि पराने खल-दल॥
अपने जन को तुरत उबारौ। सुमिरत होय आनंद हमारौ॥
यह बजरंग-बाण जेहि मारै। ताहि कहौ फिरि कवन उबारै॥
पाठ करै बजरंग-बाण की। हनुमत रक्षा करै प्रान की॥
यह बजरंग बाण जो जापैं। तासों भूत-प्रेत सब कापैं॥
धूप देय जो जपै हमेसा। ताके तन नहिं रहै कलेसा॥


दोहा:
उर प्रतीति दृढ़, सरन ह्वै, पाठ करै धरि ध्यान।
बाधा सब हर, करैं सब काम सफल हनुमान॥

Bajrang Baan Hindi Lyrics In Image

bajrang baan hindi lyrics in image
Bajrang Baan Hindi Lyrics In Image

Bajrang Baan Lyrics Hindi PDF Download

नीचे दिए गए Download PDF बटन पर क्लिक करके पीडीएफ डाउनलोड कर लीजिए:

FAQs – Bajrang Baan Lyrics Full Hindi PDF

बजरंग बान का हिंदी पीडीएफ कैसे डाउनलोड करें?

बजरंग बाण का संपूर्ण हिंदी पीडीएफ आप इस पोस्ट में डाउनलोड कर सकते हैं।

बजरंग बाण पाठ करने की सटीक विधि क्या है?

भूल तरीके से पाठ करने पर बोहोत बड़ी नुकसान हो सकती है, इसलिए समस्त सटीक विधि जान लीजिए इस पोस्ट में।

बजरंग बाण पाठ करने का फायदा क्या है?

बजरंग बान का नियमित जप करने के सारे फायदे और नुकसान जान लीजिए इस पोस्ट में।

Rate this post, Your Opinion Matters!

Leave a Comment